बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है: आंखों की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए बहुत समय से काजल का उपयोग होता आ रहा है | मार्केट में मिलने वाले काजल बहुत ज्यादा केमिकल से भरे होते हैं | जो बच्चों आंखों को नुकसान दे सकते हैं |

इसीलिए आपकी आंखों को नुकसान से बचाने के लिए मैं आपको काजल बनाने की विधि बताऊंगी | महिला हो पुरुष हो या फिर बच्चे हो हर कोई इस काजल को अपनी आंखों में लगा सकता है | यह घर पर बना हुआ फ्रेश काजल होगा | जो आंखों के खूबसूरती बढ़ाने में लाभदायक होगा |

तो आईए जानते हैं बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है | बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

काजल बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • दो कटोरी
  • चार से पांच बदाम
  • गाय का घी 
  • बाती 
बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

बच्चों के लिए काजल बनाने की विधि

सबसे पहले काजल को बनाने के लिए हमें दो बर्तन चाहिए | यानी दो कटोरिया ले | एक में हम काजल को बनाएंगे और दूसरी कटोरी में हम काजल को स्टोर करेंगे | उसके साथ ही हमें कुछ बादाम चाहिए | चार से पांच बदाम ले और साथ में थोड़ा सा घी और साथ में एक बाती ले | 

काजल बनाने के लिए आमतौर पर गाय का घी  इस्तेमाल करना चाहिए | क्योंकि गाय का घी और बादाम काजल बनाने के लिए बहुत पुराने समय से इस्तेमाल होते आ रहे हैं | उसके बाद एक बाती बनानी है | 1/4  चम्मच घी लेना है | बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

ध्यान रहे ज्यादा घी नहीं लेना है ,कटोरी को सेट करने के लिए आप बीच में या तो ढक्कन रख दें या कोई बर्तन रख ले | उसके ऊपर आपको एक कटोरी राख लेनी है | तो बादाम का काजल बनाने के लिए सबसे पहले बादाम में थोड़ा सा घी से इसको ग्रीस कर ले | 

बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

जिससे कि अच्छे से हम इसको अच्छे से जला सके | उसके बाद एक-एक बादाम लेना है और उसको अच्छे से गैस के ऊपर गरम कर लेना है | जैसे आप इसको गर्म करना स्टार्ट करेंगे  यह जलने लगेगा तो जब यह जलन स्टार्ट हो जाए आप आप इस कटोरी में इसको कलेक्ट कर ले |  

चार से पांच बदाम कटोरी में रख लिए हैं | और इसके साथ बाती भी रख ले | इसके साथ जलाने का मतलब यह है कि बाती से बदाम बूझेगा नहीं और अच्छे से जलता रहेगा | इसीलिए बाती में हमने थोड़ा कम लिया था | अब इस कटोरी को थोड़ा ऊंचा करने के लिए इसको ढक्कन पर रख ले | 

जिस चीज पर आप काजल बनाएं उसको एक से डेढ़ इंच ऊपर रखना है | काजल को ज्यादा ऊपर नहीं रखता है क्योंकि इससे काजल अच्छा नहीं बनेगा | अब जिसमें हमें काजल को कलेक्ट करना है उसको मैंने ऊपर रखा था तो उसे बर्तन को उल्टा करके रख दे | 

जो काजल आप बना रहे हैं वह बादाम के अपने तेल से बन रहा है | इसमें हमने घी इसीलिए कम डाला था जिससे कि हम अच्छे से बादाम को जला सके और काजल बना ले | जब बादाम अच्छे से बुझ जाए तब कटोरा को अलग कर ले | 

 इस तरह 10 मिनट में बादाम का काजल बनकर तैयार हो गया है | आप चाहे तो उसको ऐसे ही स्टोर कर ले | या फिर जब आपको काजल लगाना है तब इसमें थोड़ा सा बादाम का तेल मिक्स कर ले | आप इसमें गाय का घी भी डाल सकते हैं | बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

Read more: रूखी त्वचा के लिए 8 बेस्ट फेस वॉश लिस्ट

बच्चों को काजल क्यों लगाया जाता है ?

बच्चों को काजल लगाने के बहुत से कारण होते हैं | हमारे बड़े बुजुर्ग कहते थे कि काजल लगाने से बच्चे की आंखें बड़ी हो जाती है | लेकिन हमारा मानना है कि काजल लगाने से बच्चे की आंखें सुंदर दिखती है | लड़का हो या लड़की काजल से आंखों की सुंदरता बढ़ती है | बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

बहुत से लोग ऐसा बोलते हैं कि कान के पीछे काजल लगाना चाहिए | इससे बच्चों को बुरी नजर से बचाया जा सकता है | लेकिन ऐसा कोई वैज्ञानिक रूप से प्रमाण नहीं है | हमारे बड़े बुजुर्ग ऐसा कहते थे कि या तो कान के पीछे या फिर पांव के नीचे काला टीका लगाने से बच्चों को नजर लगने पर बचाया जा सकता है |

बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

काजल लगाने का सही तरीका क्या है?

  • काजल को ईयर BUDS की सहायता से लगाना चाहिए |
  • जब शिशु आराम करने की अवस्था में हो तब काजल को लगाना चाहिए |
  • क्योंकि आराम करने की पोजीशन में बात काजलको अच्छे से लगता है |
  • काजल को हमेशा थोड़ी मात्रा में लगे |
  • क्योंकि ज्यादा मात्रा में लगाने से काजल आंख के अंदर चला जाताहै |
  • जो आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है |

काजल को लगाने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातें

कई बच्चों की आंखें जन्म से ही लाल होती है | जो एलर्जी या जलन की वजह से हो सकता है | इसीलिए ध्यान रहे की एलर्जी या लाल दिखने वाली आंखों पर काजल का इस्तेमाल ना करें | क्योंकि इससे आंखों को नुकसान पहुंच सकता है | बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है?

काजल को हमेशा साफ आंखों परलगे | ताकि आंखों को आराम मिल सके | अगर बच्चे की आंख से पानी जैसा कुछ निकल रहा है तो भी काजल का इस्तेमाल ना करें | इससे बच्चों को आंख की बीमारी हो सकती है | ऐसी अवस्था में अगर आप काजल लगाना चाहे तो अपने नजदीकी आंखों के डॉक्टर से संपर्क करें | 

अगर डॉक्टर आंख को चेक करने के बाद आपको अनुमति देता है कि बच्चों को काजल लगा सकते हैं | तो ही आप काजल बच्चों को लगे | क्योंकि बिना डॉक्टर की सलाह के काजल लगाना बच्चों के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है | 

बहुत बार हमने देखा है की आंख में काजल डालते समय बहुत सी महिलाएं उंगली को आंख में डालती है जिससे बच्चा अच्छा महसूस नहीं करता और आंख से पानी आने लगता है | इसीलिए ध्यान रहे की आंख में काजल डालते समय किसी EAR BUDS की मदद से काजल लगे या फिर उंगली की सहायता से काजल लगाए तो उंगली को आंख में लगने से बचाएं | 

निष्कर्ष 

मैं आशा करती हूं कि मेरे द्वारा बच्चों के लिए काजल कैसे बनाया जाता है की जानकारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी | अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें |हमारे द्वारा दी गई जानकारी मान्यताओं पर आधारित है |

किसी भी उपाय को अपने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह जरूर लें | हमारा यह लेखकिसी भी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता |  बच्चों की सुंदरता से संबंधित और अधिक जानकारी के लिए हमारे दूसरे लेख को जरूर पढ़ें | धन्यवाद |

Leave a Comment